SchoolChalao

  • Helpline: +91-8058868746
  • Mail us: help@schoolchalao.com
  • LOGIN | REGISTER
    Tutorial Library
Home > Learning Point > Moral stories for kids > Hindi stories > मिट्टी का दिल | एक प्रेरणादायक कहानी

Learning Point

मिट्टी का दिल | एक प्रेरणादायक कहानी

Previous Next

पंकज एक गुस्सैल लड़का था. वह छोटी-छोटी बात पर नाराज़ हो जाता और दूसरों से झगड़ा कर बैठता. उसकी इसी आदत की वजह से उसके अधिक दोस्त भी थेपंकज के माता-पिता और सगे-सम्बन्धी उसे अपना स्वभाव बदलने के लिए बहुत समझाते पर इन बातों का उसपर कोई असर नहीं होताएक दिन पंकज के पेरेंट्स को शहर के करीब ही किसी गाँव में रहने वाले एक सन्यासी बाबा का पता चला जो अजीबो-गरीब तरीकों से लोगों की समस्याएं दूर किया करता थाअगले दिन सुबह-सुबह वे पंकज को बाबा के पास ले गए.

बाबा बोले, “जाओ और चिकनी मिटटी के दो ढेर तैयार करो.

पंकज को ये बात कुछ अजीब लगी लेकिन माता-पता के डर से वह ऐसा करने को तैयार हो गयाकुछ ही देर में उसने ढेर तैयार कर लिया.

बाबा बोले, “अब इन दोनों ढेरों से दो दिल तैयार करो!”

पंकज ने जल्द ही मिटटी के दो हार्ट शेप तैयार कर लिए और झुंझलाते हुए बोला, “हो गया बाबा, क्या अब मैं अपने घर जा सकता हूँ?”

बाबा ने उसे इशारे से मना किया और मुस्कुरा कर बोले, “अब इनमे से एक को कुम्हार के पास लेकर जाओ और कहो कि वो इसे भट्टी में डाल कर पका दे.”

पंकज को कुछ समझ नहीं रहा था कि बाबा करना क्या चाहते हैं पर अभी उनकी बात मानने के अलावा उसके पास कोई चारा थादो-तीन घंटे बाद पंकज यह काम कर के लौटा.

यह लो रंग और अब इस दिल को रंग कर मेरे पास ले आओ!”, बाबा बोले.

आखिर आप मुझसे कराना क्या चाहते हैं? इन सब बेकार के टोटकों से मेरा गुस्सा कम नहीं हो रहा बल्कि बढ़ रहा है!”, पंकज बड़बड़ाने लगा.

बाबा बोले, “बस पुत्र यही आखिरी काम है!”

पंकज ने चैन की सांस ली और भट्टी में पके उस दिल को लाल रंग से रंगने लगारंगे जाने के बाद वह बड़ा ही आकर्षक लग रहा था. पंकज भी अब कहीं कहीं अपनी मेहनत से खुश था और मन ही मन सोचा रहा था कि वो इसे ले जाकर अपने रूम में लगाएगावह अपनी इस कृति को बड़े गर्व के साथ बाबा के सामने लेकर पहुंचापहली बार उसे लग रहा था कि शायद बाबा ने उससे जो-जो कराया ठीक ही कराया और इसकी वजह से वह गुस्सा करना छोड़ देगा.

तो हो गया तुम्हारा काम पूरा?”, बाबा ने पूछा.

जी हाँ, देखिये ना मैंने खुद इसे लाल रंग से रंगा है!”, पंकज उत्साहित होते हुए बोला.

ठीक है बेटा, ये लो हथौड़ा और मारो इस दिल पर.”, बाबा ने आदेश दिया.

ये क्या कह रहे हैं आप? मैंने इतनी मेहनत से इसे तैयार किया है और आप इसे तोड़ने को कह रहे हैं?”, पंकज ने विरोध किया.

इस बार बाबा गंभीर होते हुए बोले, “मैंने कहा मारो हथौड़ा!”

पंकज ने तेजी से हथौड़ा अपने हाथ में लिए और गुस्से से दिल पर वार कियाजिस दिल को बनाने में पंकज ने आज दिन भर काम किया था एक झटके में उस दिल के टुकड़े-टुकड़े हो गए.

देखिये क्या किया आपने, मेरी सारी मेहनत बर्बाद कर दी.”

बाबा ने पंकज की इस बात पर ध्यान देते हुए अपने थैले में रखा मिट्टी का दूसरा दिल निकाला और बोले, “चिकनी मिट्टी का यह दूसरा दिल भी तुम्हारा ही तैयार किया हुआ हैमैं इसे यहाँ जमीन पर रखता हूँलो अब इस पर भी अपना जोर लगाओ…”

पंकज ने फ़ौरन हथौड़ा उठाया और दे मारा उस दिल परपर नर्म और नम होने के कारण इस दिल का कुछ ख़ास नहीं बिगड़ा बस उसपर हथौड़े का एक निशान भर उभर गया. “अब आप खुश हैंआखिर ये सब कराने का क्या मतलब थामैं जा रहा हूँ यहाँ से!”, पंकज यह कह कह कर आगे बढ़ गया.

ठहरो पुत्र!,” बाबा ने पंकज को समझाते हुए कहा, “जिस दिल पर तुमने आज दिन भर मेहनत की वो कोई मामूली दिल नहीं थादरअसल वो तुम्हारे असल दिल का ही एक रूप थातुम भी क्रोध की भट्टी में अपने दिल को जला रहे होउसे कठोर बना रहे होना समझी के कारण तुम्हे ऐसा करना ताकत का एहसास दिलाता हैतुम्हे लगता है की ऐसा करने से तुम मजबूत दिख रहे होमजबूत बन रहे होलेकिन जब उस हथौड़े की तरह ज़िंदगी तुम पर एक भी वार करेगी तब तुम संभल नहीं पाओगेऔर उस कठोर दिल की तरह तुम्हारा भी दिल चकनाचूर हो जाएगा!

समय है सम्भल जाओ! इस दूसरे दिल की तरह विनम्र बनोदेखो इस पर तुम्हारे वार का असर तो हुआ है पर ये टूट कर बिखरा नहींये आसानी से अपने पहले रूप में सकता हैये समझता है कि दुःख-दर्द जीवन का एक हिस्सा है और उनकी वजह से टूटता

 

Very Useful (0)

Useful (0)

Not Useful (0)